भगवान श्री गणेश (20 name of lord ganesha) :

भगवन श्री गणेश  माता पार्वती और भगवान महादेव के प्रिय संतान में से एक है |  आज हम आप लोग के बीच श्री गणेश भगवन के प्रमुख 20 नाम बातयेगे (20 name of lord ganesha) भगवान गणेश अत्यंत दयालु है  और अपने भक्तो की पुकार जल्दी सुन लेते है |

गणेश भगवान को बुद्धि और वैभव का भी देवता माना जाता है   और भगवान श्री गणेश के नाम का पाठ करने से उनकी कृपा और आर्थिक तंगी का भी निवारण होता है | अतः जो भी जातक भगवान श्री गणेश की मन से पूजन पाठ करता उस की मनो मनोकाना भगवन जरुर पूर्ण करते है | 

भगवान  गणेश के 20 नाम  करने से क्या लाभ होता है ?

भगवान शिव ने गणेश जी को आशीर्वाद दिया था कि जब पूजा होगी तो सबसे पहले आपका ही स्मरण होगा, इसलिये ही उन्हें प्रथम पूज्य कहा जाता है। गजानन महाराज के 20 नामों को गणेश नामावली कहते हैं। इस नामावली का जाप करने से मंगलमूर्ति समस्त कष्टों को दूर करते हैं।

भगवान श्री गणेश के 20 प्रमुख नाम

बालगणपति : सबसे प्रिय बालक
2. भालचन्द्र : जो चंद्रमा को मस्तक पे धारण करे
3. बुद्धिनाथ : जो बुद्धि के  देवता हो
4. धूम्रवर्ण : जो धुंए को उड़ दे
5. एकाक्षर : जो एक अक्षर
6. एकदन्त: जो एक दांत वाले हो
7. गजकर्ण : हाथी की जैसे आंखों वाले हो
8. गजानन: हाथी के मुख वाले देवता हो

यह भी पढ़े :   श्रीगणपती स्तोत्र सम्पूर्ण स्तोत्र – मराठी अनुवाद सहित 

9. गजवक्र : जो हाथी की सूंड वाले देवता
10. गजवक्त्र:  जो हाथी की तरह मुंह है
11. गणाध्यक्ष :  जो सभी जनों के मालिक है
12. गणपति : जो सभी गणों के मालिक है
13. गौरीसुत : जो माता गौरी के बेटे है
14. लम्बकर्ण : जो बड़े कान वाले देव है
15. लम्बोदर : जो बड़े पेट वाले है
16. महाबल : जो अत्अयंत त्यधिक बलशाली
17. महागणपति : जो देवादिदेव है
18. महेश्वर: जो सारे ब्रह्मांड के भगवान है
19. मंगलमूर्ति : जो सभी शुभ कार्यों के भगवन है
20. मूषकवाहन : जिनकी सारथी मूषक है

भगवान  गणेश का बीज मंत्र करने से क्या लाभ होता है ?

गणेश चतुर्थी पर गणपति उपासना की अनेक वैज्ञानिक प्रमाण हमारे प्राचीन मुनियों द्वारा प्रतिपादित की गयी हैं। 

गणपति  महापर्व के अवसर पर हमरे प्राचीन ग्रन्थ में अनेक पारकर के मंत्र साधना का विवरण मिलता है,जो अत्यंत प्रभावशाली बताया गया है  | मंत्रो का प्रभाव हमरे जीवन में बड़ा गेहरा पड़ता है |  मंत्र जाप की शुरुवात किसी योग गुरु के सानिध्य में करनी चाइये | इसे मंत्र जल्दी क्रियाशील हो जाता है |

गणपति  का बीज मंत्र भी ऐसा है जिसे जपने से बाहरी और आंतरिक शत्रुओं से मुक्ति पा सकते हैं साथ ही ऋद्धि सिद्धि की भी कृपा पा सकते हैं। इसे आप स्वयं सिद्ध करके जप सकते हैं या किसी गुरु की कृपा से प्राप्त कर सकते हैं। शास्त्रों में “गं” और “ग:” को गणपति का बीज मंत्र कहा गया है।

अब हम आप भगवन गणेश के अन्य बीज मंत्रो की जनकरी देने जा रहे है जो हमरे विभिन्य ऋषि मुनियों द्वारा विभिन ज्ञान मार्ग द्वारा प्राप्त हुए की गई है |

भगवान  गणेश के अन्य प्रचलित मंत्र 

  • गं गणपतये नमः
  • हस्तिपिशाचिलिखै स्वाहा
  • ॐ ह्रीं ग्रीं ह्रीं

हवन सामग्री : 

गणेश बीज मंत्र की संख्या ५ लाख पे पूर्ण माना जाता है | हवन में जीरे, काली मिर्च, गन्ने, दूर्वा, घृत, मधु इत्यादि हविष्य से दशांश आहुति प्रावधान है | इस विधि से अगर पूजा पाठ किया गया  हो पूर्ण मनो वंचित फल की प्राप्ति होती है  और   कार्य सिद्ध  होते है |  

आप सभी लोगो के लिए निचे भगवन गणेश के १०८ नामो वाली विडियो दी गई है जिसे आप सुन सकते है और याद कर सकते है |

भगवान  गणेश के 108 नाम विडियो

Read More:

श्रीगणपती स्तोत्र सम्पूर्ण स्तोत्र – मराठी अनुवाद सहित 

कष्ट दूर करेंगे श्री गणेश के 108 नाम

Navagraha Stotra – नवग्रह स्रोत्र

भगवन शिव द्वारा रचित भगवन राम की स्तुति पौराणिक कथा 

Item added to cart.
0 items - 0.00